January 28, 2022

ठेका दिलाने के नाम पर बिल्डरों से ठगे 125 करोड़, पत्नी, बहन समेत गिरफ्तार

New Delhi/Alive News : गुरुग्राम में राष्ट्रीय सुरक्षा गार्ड (एनएसजी) कैंपस में निर्माण कार्यों के लिए ठेका दिलाने के नाम पर पांच बिल्डरों से 125 करोड़ रुपये की ठगी करने का मामला सामने आया है। जिसमें गुरुग्राम पुलिस ने सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) के कमांडेंट प्रवीण यादव, उसकी पत्नी ममता यादव, एक्सिस बैंक की मैनेजर बहन रितुराज यादव और एक बिचौलिये दिनेश कुमार को गिरफ्तार किया गया है।

मिली जानकारी के अनुसार पुलिस ने आरोपियों के पास से 13.81 करोड़ रुपये की नकदी और चार लग्जरी कारें बरामद की हैं। गिरोह में शामिल एनएसजी में तैनात सहायक कमांडेंट नवीन यादव अभी फरार है। वह रिश्ते में मास्टरमाइंड प्रवीण यादव का साला है और अभी मानेसर में तैनात है। वारदात का मास्टरमाइंड रहा प्रवीण यादव गुरुग्राम स्थित खेड़ा खुर्ररमपुर का रहने वाला है। दिनेश हिसार का रहने वाला है।

मिली जानकारी के अनुसार आरोपी प्रवीण यादव खुद को आईपीएस अफसर बताकर एनएसजी कैंपस में ठेके दिलाने के नाम पर उनसे 64.49 करोड़ रुपये की ठगी करता था। इसमें रितुराज भी शामिल है। वह सेक्टर 81 में सफायर मॉल स्थित एक्सिस बैंक में शाखा प्रबंधक है। उनके साथ एनएसजी में सहायक कमांडेंट नवीन यादव भी शामिल है। 9 जनवरी को दूसरे बिल्डर देवेंद्र यादव ने 37 करोड़ रुपये ठगी की शिकायत की थी। प्रवीण ने एनएसजी के पते पर यह फर्जी कंपनी बनाई थी। जांच में खुलासा हुआ कि कंपनी का एनएसजी से कोई लेना-देना नहीं था। उसने पत्नी ममता यादव व बहन रितुराज को निदेशक बना रखा था। वह चार साल पहले बीएसएफ से प्रतिनियुक्ति पर एनएसजी में तैनात हुआ था।

Related articles

सुप्रीम कोर्ट ने दिए आठ माह की रेप पीड़ित बच्ची की मेडिकल जांच के आदेश

New Delhi/Alive News : सुप्रीम कोर्ट ने एम्स के दो डॉक्टरों को निर्देश दिया है कि वे आठ माह की रेप पीड़ित बच्ची की मेडिकल जांच करें और बताएं कि उसकी क्या स्थिति है। बच्ची दिल्ली के कलावती सरन बाल अस्तपाल में भर्ती है। दो डॉक्टरों की टीम गुरुवार को सुप्रीम कोर्ट में अपनी रिपोर्ट […]

गाड़ी का शीशा तोड़कर सामान चोरी करने वाले गुलेल गैंग का एक आरोपी गिरफ्तार

Faridabad/Alive News : पिछले करीब एक साल से शहर के पोश इलाके में सैक्टर 31, सैक्टर 17, सैक्टर 12 और बी.पी.टी.पी एरिया की पार्किंग, सड़क किनारे, ऑफिस के बाहर खड़ी गाडियां जिनमे अक्सर कीमती समान जैसे लैपटॉप, पर्स कागजात इत्यादि रखे रहते है शीशे को गुलेल से तोड़कर चंद मिनटों में सामान पर हाथ साफ़ […]