October 19, 2021

डेगूं और मलेरिया बुखार से बचाने के लिए नियमों की पालना जरूरी

Faridabad/Alive News: उपायुक्त जितेंद्र यादव ने कहा कि जिला में डेगूं और मलेरिया बुखार के बचाव के लिए सरकार द्वारा जारी हिदायतों की पालना जरूरी है। जिला में आईडीएसपी लैब, ब्लड बैंक और मॉलिक्यूलर लैब में तीन एलिसा रीडर काम कर रहे हैं। जिला में स्वास्थ्य विभाग की टीमों द्वारा 17484 हमने नमूने लिए हैं। हमारे जिला में इनका परीक्षण करने उपरांत अब तक डेंगू के 147 सकारात्मक मामले सामने आए हैं।

मलेरिया के लिए हमारे द्वारा किए गए परीक्षणों की कुल संख्या 52890 है। इनमें स्लाइड्स के 44155 और आरडीटी के 8735 टेस्ट शामिल हैं। अबतक जिला में मलेरिया के केवल 9 मामले ही सामने आए हैं। उपायुक्त बरसात के मौसम में मच्छरों से डेंगू व मलेरिया जैसी अनेकों बिमारियां फैलने का खतरा बना रहता है। यद्यपि स्वास्थ्य विभाग हरियाणा आमजन के स्वास्थ्य के लिए गंभीरता से इसके बचाव के लिए प्रयासरत है, फिर भी नागरिकों को इन बिमारियों से बचने के लिए सचेत एवं जागरूक रहने की आवश्यकता है।

उन्होंने कहा कि अपने घरों के आसपास पानी जमा न होने दें। सभी गड्ढों को मिट्टी से भर दें और रुकी हुई नालियों को साफ रखें। यदि आपके घर में या आसपास पानी जमा होने से रोकना संभव नहीं है तो उसमें पेट्रोल या कैरोसिन ऑयल डालें। सभी रूम कूलरों, फूलदानों का सारा पानी हफ्ते में एक बार और पक्षियों को दाना-पानी देने के बर्तन को रोज पूरी तरह से खाली करें और उन्हें सुखाए और फिर भरें, घर में टूटे-फूटे डिब्बे, टायर, बर्तन, बोतलें आदि न रखें, अगर रखें तो उसे उल्टा करके रखें।

मलेरिया के नोडल अधिकारी डाँ रामभक्त ने बताया कि स्वास्थ्य विभाग की टीमों ने सभी 44 नियोजन इकाइयों यानी स्वास्थ्य संस्थानों के लिए वेक्टर जनित रोगों के लिए नोडल अधिकारी नियुक्त किए हैं। इन नोडल अधिकारियों के अधीन क्षेत्र नियोजन इकाईक्षवार वितरण भी किया गया है। जिला स्तर पर और पीएचसी स्तर तक आरआरटी का गठन किया है।

उपायुक्त जितेन्द्र यादव की अध्यक्षता में डीएलएमडब्ल्यूसी की बैठक हुई है। आईएमए और निजी कॉरपोरेट अस्पतालों के साथ भी दो बैठकें होती हैं। नागरिक अस्पताल में 18 बेड का डेंगू वार्ड स्थापित है। जिसमें 8 मरीज भर्ती हैं। इसकी बेड कैपेसिटी जरूरत के हिसाब से बढ़ाई जाएगी। उन्होंने आगे बताया कि ब्लैड बैंक नागरिक अस्पताल बीके में ब्लड कंपोनेंट सेपरेटर यूनिट कार्यरत है। जिला में आपातकालीन उपयोग के लिए 10-15 आरडीपी का एक पूल बनाए हुए हैं।

जिला में निजी अस्पतालों और ब्लड बैंकों में 13 अन्य एफेरेसिस इकाइयाँ हैं। जिनमें 253 एसडीपी किट उपलब्ध हैं। उन्होंने बताया कि स्रोत न्यूनीकरण गतिविधियों के लिए एनआईटी एक, एनआईटी दो, ओल्ड फरीदाबाद और बल्लभगढ़ क्षेत्रों में प्रत्येक में 10-10 टीमें प्रजनन की जांच और स्लाइड तैयार करने के लिए एक एमपीएचडब्ल्यू और एक यूएमएस कार्यकर्ता के साथ सक्रिय की हैं। इन टीमों द्वारा अब तक जिला के 180875 घरों की जांच की गई है। विभिन्न क्षेत्रों में पाए जाने वाले प्रजनन के लिए 3788 नोटिस जारी किए गए हैं।

नगर निगम के क्षेत्राधिकार में आने वाले नलकूपों और पार्कों के आसपास उन्होंने बताया कि वेक्टर और जल जनित रोगों के बारे में आम जनता को शिक्षित और प्रेरित करने के लिए स्वास्थ्य और एमसीएफ के कर्मचारी पार्षदों के साथ समन्वय स्थापित करें। दोनों विभागों से क्षेत्रवार फील्ड स्टाफ की सूची साझा करें ताकि प्रत्येक स्तर पर तालमेल और समन्वय सुनिश्चित किया जा सके। उन्होंने बताया कि वेक्टर एवं जल जनित रोगों के नियंत्रण एवं उनकी जिम्मेदारी तय करने के लिए क्षेत्रवार नोडल अधिकारियों की नियुक्ति की गई है।

Related articles

बाल सुरक्षा सप्ताह के तहत बच्चों को सेफ्टी किट बांटकर किया जागरुक

Faridabad/Alive News: जिला बाल कल्याण अधिकारी नरेंद्र मलिक ने बताया कि जिला में चल रहे बाल सुरक्षा सप्ताह के पांचवें दिन विभिन्न कार्यक्रम आयोजित किए गए। उन्होंने बताया कि उपायुक्त एवं अध्यक्ष जिला बाल कल्याण परिषद यशपाल के मार्गदर्शन में पांचवे दिन एएन पब्लिक स्कूल डबुआ कॉलोनी, अमन ईंट भठे सोतई सहित विभिन्न स्थानों पर […]

HSSC के एसआई के लिखित परीक्षा केंद्रों पर रहेगी धारा 144 लागू : जिलाधीश

Faridabad/Alive News : जिलाधीश जितेंद्र यादव ने कोड आफ क्रिमिनल प्रोसीजर 1973 के तहत शक्तियों का प्रयोग करते हुए एचएसएससी के हरियाणा पुलिस के एसआई की लिखित परीक्षा केंद्रों पर धारा -144 लगाने के आदेश पारित किए हैं। उन्होंने आदेश जारी करते हुए कहा कि अधिनियम-1973 के तहत जारी की गई धारा-144 के अनुसार कोई […]