July 27, 2021

आज है शनि अमावस्या जानें व्रत का महत्व और पूजा विधि

हिंदू पंचांग के अनुसार 10 जुलाई को आषाढ़ मास की कृष्ण पक्ष की तिथि का दिन भगवान शनि को समर्पित है। इस दिन लोग शनिदेव की पूजा करते हैं। पौराणिक हिंदू मान्यता के अनुसार शनिदेव को ज्योतिष ने नौ ग्रहों (नवग्रह) में से एक माना है। इस दिन को शनि अमावस्या भी कहा जाएगा और यह शनि की साढ़े साती से पीड़ित लोगों के लिए बहुत महत्वपूर्ण है।

व्रत का महत्व
शनिवार के अधिपति देव शनि महाराज हैं। वह व्यक्ति को उनके कर्मों के अनुसार फल देते हैं, इसीलिए इन्हें न्याय का देवता कहा जाता है। शनि की महादशा का सामना कर रहे व्यक्तियों को शनिवार का व्रत रखना चाहिए क्योंकि अगर कर्मों के फलदाता आपके पूजा से खुश हैं, तो आपके जीवन से दुखों का अंत हो जाएगा।

शनि देव को काली वस्तुएं बहुत पंसद है, इसलिए काले तिल, काला वस्त्र, तेल, उड़द बहुत ही प्रिय हैं। शनि देव की पूजा में इन वस्तुओं का उपयोग अवश्य करना चाहिए। आज शनिवार है, जो लोग आज का व्रत रखते हैं, वे आज की व्रत, पूजा विधि और महत्व को यहां जान सकते हैं।

व्रत पूजा विधि
इस दिन प्रातः काल जल्दी उठकर स्नान कर शनि देव का स्मरण करें। इसके बाद पीपल के वृक्ष पर जल अर्पित करना चाहिए। लोहे से बनी शनि देवता की मूर्ति को पंचामृत से स्नान कराना और मूर्ति को चावलों से बनाए चौबीस दल के कमल पर स्थापित करें। इसके बाद काले तिल, फूल, धूप, काला वस्त्र व तेल आदि से पूजा करें। व्रत में पूजा के बाद शनि देव की कथा का श्रवण करें और दिनभर उनका स्मरण करते रहें।

Related articles

आज मनाई जाएगी महेश नवमी, जानें पूजा विधि और इससे जुड़ी पौराणिक कथा

ज्येष्ठ मास के शुक्ल पक्ष की नवमी तिथि को महेश नवमी का पर्व मनाया जाता है। इस बार ये पर्व 19 जून 2021 शनिवार को है। हिंदू धर्म में इस पर्व की काफी अहमियत है। इस दिन भगवान शिव की पूजा करने का विधान है। कहा जाता है कि महेश नवमी के दिन व्रत रखकर […]

इस विधि से करें शनिदेव की पूजा, धन धान्य की होगी वृद्धि

भारतीय समाज में आमतौर ऐसा माना जाता है कि शनि अनिष्टकारक, अशुभ और दु:ख प्रदाता है, पर वास्तव में ऐसा नहीं है। मानव जीवन में शनि के सकारात्मक प्रभाव भी बहुत होते है। शनि संतुलन व न्याय के ग्रह हैं। यह सूर्य के पुत्र माने जाते हैं। यह नीले रंग के ग्रह हैं, जिससे नीले […]