October 20, 2021

जीवित्पुत्रिका व्रत आज, जानें पूजा का शुभ मुहूर्त और पौराणिक महत्व

New Delhi/Alive News : आज जीवित्पुत्रिका व्रत है. ये व्रत हर साल अश्विन मास के कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि को मनाया जाता है. इसे जिउतिया या जितिया व्रत भी कहा जाता है. पुत्र ​की दीर्घ, आरोग्य और सुखमयी जीवन के लिए इस दिन माताएं व्रत रखती हैं. तीज की तरह यह व्रत भी बिना आहार और निर्जला रखा जाता है. यह पर्व तीन दिन तक मनाया जाता है. सप्तमी तिथि को नहाय-खाय के बाद अष्टमी तिथि को महिलाएं बच्चों की समृद्धि और उन्नत के लिए निर्जला व्रत रखती हैं. इसके बाद नवमी तिथि यानी अगले दिन व्रत का पारण किया जाता है.

पूजा का शुभ मुहूर्त – जितिया व्रत की पूजा शाम में सूर्यास्त के बाद शुरू होती है. 29 सितंबर ​को शाम 6 बजकर 9 मिनट पर सूर्यास्त होगा और इसके बाद प्रदोष काल प्रारंभ हो जाएगा. अष्टमी तिथि का समय रात 8:29 बजे तक है. जितिया व्रत की पूजा शाम 6:09 बजे से रात 8:29 बजे तक की जा सकती है.

जितिया व्रत की पौराणिक कथा- जीवित्पुत्रिका व्रत का संबंध महाभारत काल से है. युद्ध में पिता की मौत के बाद अश्वत्थामा बहुत नाराज था. सीने में बदले की भावना लिए वह पांडवों के शिविर में घुस गया. शिविर के अंदर पांच लोग सो रहे थे. अश्वत्थामा ने उन्हें पांडव समझकर मार डाला. कहा जाता है कि वो सभी द्रौपदी की पांच संतानें थीं. अर्जुन ने अश्वत्थामा को बंदी बनाकर उसकी दिव्य मणि छीन ली. क्रोध में आकर अश्वत्थामा ने अभिमन्यु की पत्नी के गर्भ में पल रहे बच्चे को मार डाला. ऐसे में भगवान कृष्ण ने अपने सभी पुण्यों का फल उत्तरा की अजन्मी संतान को देकर उसके गर्भ में पल रहे बच्चे को पुन: जीवित कर दिया. भगवान श्रीकृष्ण की कृपा से जीवित होने वाले इस बच्चे को जीवित्पुत्रिका नाम दिया गया. तभी से संतान की लंबी उम्र और मंगल कामना के लिए हर साल जितिया व्रत रखने की परंपरा है.

Related articles

आज है शनि अमावस्या जानें व्रत का महत्व और पूजा विधि

हिंदू पंचांग के अनुसार 10 जुलाई को आषाढ़ मास की कृष्ण पक्ष की तिथि का दिन भगवान शनि को समर्पित है। इस दिन लोग शनिदेव की पूजा करते हैं। पौराणिक हिंदू मान्यता के अनुसार शनिदेव को ज्योतिष ने नौ ग्रहों (नवग्रह) में से एक माना है। इस दिन को शनि अमावस्या भी कहा जाएगा और […]

आज है बुराई पर व‍िजय का पर्व दशहरा, जानिए किन कारणों से नवरात्रि के बाद मनाई जाती है विजयदशमी

आश्विन मास के शुक्ल पक्ष की दशमी को आज पूरे देश में दशहरा धूमधाम से मनाया जा रहा है। सत्य की असत्य पर जीत के इस पर्व को विजयादशमी भी कहते हैं। इसके अलावा यह पर्व वर्षा ऋतु की समाप्ति व शरद के प्रारंभ होने की सूचना भी देता है। इस दिन भगवान राम ने […]