October 19, 2021

दलहनी व तिलहनी फसलों पर मिलेगी प्रोत्साहन राशि : डीसी यशपाल

Faridabad/Alive News : उपायुक्त यशपाल ने कहा है कि दलहनी व तिलहनी फसलों को बढ़ावा (खरीफ 2021) देने के उद्देश्य से राज्य सरकार ने किसानों के लिए योजना को क्रियान्वित किया है। उन्होंने कहा कि इस योजना के तहत किसानों को 4 हजार रुपये प्रति एकड़ की वित्तीय सहायता देने का प्रावधान किया गया है।

उपायुक्त ने कहा कि सरकार ने प्रदेश के सभी खासकर प्रमुख बाजरा उत्पादक जिलों में दलहनी, मुंग, अरहर तथा तिलहन, हरंड, मूंगफली की फसल को बढ़ावा देने के उद्देश्य से इस योजना को क्रियान्वित किया है। उन्होंने बताया कि राज्य सरकार ने बाजरे की बजाए 70 हजार एकड़ क्षेत्र में दलहनी तथा 30 हजार एकड़ क्षेत्र में तिलहनी फसल लगाने का लक्ष्य निर्धारित किया है।

उपायुक्त ने कहा कि दलहनी व तिलहनी फसलों को लगाने के कई लाभ है। उन्होंने बताया कि दलहन फसलें भूमि की उर्वरता शक्ति बढ़ाती है, जबकि तिलहन फसलों को बढ़ावा देने से खाद्य तेल की उपलब्धता सुनिश्चित हो होती है। इसके साथ ही उन्होंने किसानों से अपील की कि दलहनी व तिलहनी फसलों की अधिक पैदावार के लिए बीज का उपचार अवश्य करवाएं।

उपायुक्त यशपाल ने किसानों से मेरी फसल मेरा ब्योरा वेब पोर्टल https://fasal.haryana.gov.in पर 31 जुलाई तक रजिस्ट्रेशन कराने की भी अपील की। उन्होंने कहा कि अधिक जानकारी के लिए स्थानीय कृषि अधिकारियों से संपर्क किया जा सकता है। इसके अलावा हेल्पलाइन नंबर 0172-2571553 तथा 0172-2571544 पर भी संपर्क किया जा सकता है। इसके अलावा ई-मेल agriharyana2009@gmail.com व वेबसाइट www.agriharyana.gov.in से भी जानकारी प्राप्त की जा सकती है।

Related articles

डबुआ कॉलोनी में आंगनवाड़ी वर्करों ने जल संरक्षण के लिए निकाली जागरूकता रैली

Faridabad/Alive News : जल शक्ति अभियान के तहत डबुआ कॉलोनी में शुक्रवार को आंगनवाड़ी वर्करों ने जन जागरूकता रैली निकाली। रैली में उन्होंने कॉलोनी के लोगों को जल संरक्षण के महत्व के बारे में अवगत करवाएं। महिला एवं बाल विकास विभाग की कार्यक्रम अधिकारी अनीता शर्मा ने बताया कि शुक्रवार को महिला एव बाल विकास […]

अभियांत्रिकी विभाग की टीम चला रही जागरुकता अभियान

Palwal/Alive News : जल शक्ति अभियान के तहत खंड हथीन के गांव पहरी में ग्रामीणों को पानी बचाने व जल संचय के बारे में जानकारी दी गई और कहा कि कैच द रेन प्रोग्राम के तहत अधिक से अधिक बरसात के पानी का संचय होना जरूरी है, तभी भविष्य के लिए हमारे जल स्रोत बचे […]