July 3, 2022

यूपी में डेंगू और वायरल बुखार की चपेट में आने से 56 बच्चों की हुई मौत

Lucknow/Alive News : यूपी के फिरोजपुर में डेंगू और वायरल बुखार मासूम बच्चों पर कहर बरपा रहा है। वहीं 24 घंटे में छह और बच्चों की मौत हो गई। अब जिले में मौत का आंकड़ा 56 के पार पहुंच चुका है। इसके बाद स्वास्थ्य विभाग की टीम ने डेंगू और वायरल बुखार वाले क्षेत्रों में कैंप लगाकर दवाओं का वितरण कर रही है।

मिली जानकारी के अनुसार सौ शैय्या अस्पताल में 185 बच्चे भर्ती हैं। मेडिकल कॉलेज प्रशासन ने मरीजों की बढ़ती संख्या को देख संसाधन जुटाना शुरू कर दिए हैं। इसके अलावा मेडिकल कॉलेज में मंगलवार को भी आपाधापी की स्थिति बनी रही। कानपुर और आगरा से मेडिकल कॉलेज में बाल रोग चिकित्सक बुलाए गए हैं। 

मेडिकल कॉलेज का सौ शैय्या वार्ड लगभग फुल है। करीब 40 से अधिक बच्चों को छुट्टी दी गई, लेकिन मंगलवार को 50 से अधिक नए पीड़ित बच्चों को भर्ती किया गया। तेज बुखार और बेहोशी की हालत में परिजन बच्चों को भर्ती कराने के लिए पहुंचे। साथ ही मरीजों की भीड़ अधिक होने के कारण काफी देर तक इंतजार करना पड़ा। पिछले दस दिनों में अबतक 56 मरीजों की मौत होने से स्वास्थ्य विभाग में भी खलबली मची है।

झलकारी नगर निवासी राज (10) पुत्र किशन प्रजापति की प्लेटलेट्स कम हो गई थीं। पिता किशन ने बताया कि बेटे को चार दिनों से बुखार था। सुदामा नगर निवासी लकी शर्मा (6) पुत्र संजय शर्मा की प्लेटलेट्स कम होने पर सौ शैय्या अस्पताल से आगरा रेफर कर दिया था। रास्ते में उसकी मृत्यु हो गई। 

सत्यगर टापा निवासी 12 वर्षीय नंदनी पुत्र राजीव ने भी सौ शैय्या अस्पताल में मंगलवार दोपहर को दम तोड़ दिया। बालिका की प्लेटलेट्स कम होने पर भर्ती कराया गया था। हिमांयूपुर निवासी एक वर्षीय धर्मेंद्र पुत्र सोपाली की सौ शैय्या अस्पताल में इलाज के दौरान मृत्यु हो गई। सोमवार को धर्मेंद्र को तेज बुखार आने पर परिजन इलाज के लिए सौ शैय्या अस्पताल लाए थे। 

मोहल्ला झलकारी नगर गली नंबर चार निवासी हिमांशी शंखवार(8) पुत्री पंकज शंखवार की निजी अस्पताल में इलाज के दौरान मौत हुई है। वहीं टूंडला के नगला कदम में सात वर्षीय बालक तरुण की डेंगू से मौत हो गई। उधर, स्वास्थ्य विभाग की टीम ने नगला केशो छोटा कुर्रा में 52 तथा बड़ा कुर्रा 70 लोगों के स्वास्थ्य परीक्षण किए। 122 लोगों के रक्त की जांच भी की गई।

बता दें, कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सोमवार को मेडिकल कॉलेज में वायरल बुखार और डेंगू से पीड़ित मरीजों से मिले थे। अफसरों के साथ बैठक कर बदइंतजामियों पर नाराजगी जाहिर की थी। मुख्यमंत्री के दौरे के बाद स्वास्थ्य सेवाओं को बेहतर बनाने के लिए इंतजाम किए जा रहे हैं। मेडिकल कॉलेज में चिकित्सकों की कमी के कारण पांच चिकित्सकों को आगरा से बुलाया गया है। वहीं पांच चिकित्सक कानपुर से बुलाए गए हैं। 

Related articles

युवा रक्तदान में दे रहे सराहनीय योगदान : डी.आर.शर्मा

Faridabad/Alive News : जिला रैडक्रास सोसायटी, फरीदाबाद द्वारा रोटरी कल्ब फरीदाबाद सैंट्ल के सहयोग से आज रैडक्रास सोसायटी भवन मेे रक्तदान शिविर का आयोजन किया गया। इस अवसर पर सचिव रैडक्रास सोसायटी डीआर शर्मा रक्तदाताओ का मनोबल बढ़ाने हेतु विशेष रुप से उपस्थित थे। इस शिविर मे जिला रैडक्रास सोसायटी के सह सचिव बीबी कथूरिया, […]

शहर के लिए बुरी ख़बर : एकमात्र ईएसआई अस्पताल ने ऑक्सीजन बेड और वेंटीलेटर को लेकर किए हाथ खड़े

Faridabad/Alive News : कोरोना आपदा के दौरान शहर में बिगड़ते हालातों के बीच अब जिले के एकमात्र ईएसआई अस्पताल ने कोरोना संक्रमित मरीजों के ईलाज को लेकर अपने हाथ खड़े कर दिए है। दरअसल, फरीदाबाद कहने को स्मार्ट सिटी की सूची में आता है। लेकिन कोरोना महामारी के दौरान स्मार्ट सिटी के अस्पतालों की हालत […]